कल कुछ यूँ होगा…

Nandini/ July 29, 2020/ Love, कविता/Poetry/ 10 comments

कल कुछ यूँ होगा, कि हम जुदा हो जाएंगे, चाहें या नहीं, बस हमारे कहाँ चल पाएंगे, जब होगा कुछ यूँ, कि तुम हमें, और हम तुम्हें रोक ना पाएंगे, आंसू भी कहाँ पूरी तरह बह पाएंगे, ये सच है कि हमेशा कुछ नहीं रहता, पर सच तो ये भी है, कि हमारे निशां सदा को रह जाएंगे। खट्टी मीठी

Read More

बातें….

Nandini/ June 23, 2020/ कविता/Poetry/ 0 comments

बातें जैसे ख़त्म सी हो गईं हैं, दिल में तूफानों का रेला सा हैबनते बिगड़ते अरमानों का मेला सा है,फिर भी जाने क्यों, बातें जैसे थम सी गईं हैं। कहने को तो ये भी कह दूँ, साँसें बोझिल लगती हैंतुम बिन मेरी रातें जैसे, सीली सीली गुज़रती हैंये भी कहना था, कि अनजान डर से दिल बैठा सा जाता है,.दूर

Read More