स्टेपनी

Nandini/ July 7, 2020/ Love, कविता/Poetry/ 0 comments

सुनो, तुमने कभी गाड़ी की स्टेपनी को गौर से देखा है? कभी सोचा है कि क्या सोचती होगी वो पीछे बैठे बैठे? कहने को तो वो आम पहियों की तरह ही एक पहिया है, उसमें भी हवा का दबाव आम पहियों की तरह ही है तुम उसका भी उतना ही ख्याल रखते हो जितना बाकी पहियों का लेकिन कभी सोचा

Read More

प्यार, उम्र और समाज..

Nandini/ June 20, 2020/ Love, Social Issues/ 0 comments

देखो तो ज़रा, ना उम्र का लिहाज़ किया ना  जवान बच्चों का , भला ये  भी कोई उम्र है दूसरी शादी की ? भई हमने तो इस उम्र में माँ–बाप को बच्चों की शादी के लिए दौड़ते भागते देखा है ,यहाँ तो रीत ही पलट दी इन लोगों ने , माँ–बाप मंडप में बैठे हैं और बच्चे अतिथि स्वागत में

Read More